101 + अंतरिक्ष से जुड़े रोचक बाते

  •  FactsArea
  • अंतरिक्ष से जुड़े रोचक बाते

  • हमारे सौरमंडल में बुध व शुक्र ऐसे दो ग्रह हैं जिनका कोई भी उपग्रह नहीं है।
  • सूर्य पृथ्वी से 300000 गुना बड़ा है।
  • बृहस्पति ही ऐसा ग्रह है जिसके सबसे ज्यादा उपग्रह हैं।
  • मंगल ग्रह पर 1 दिन 24 घंटे 39 मिनट और 35 सेकंड होता है।
  • नासा के क्रेटर निरीक्षण और सेंसिंग सैटेलाइट ने यह घोषित किया है कि उन्हें चंद्रमा पर जल के प्रमाण मिले हैं।
  • अरुण ग्रह के 27 उपग्रह है, इनमें से 5 बड़े उपग्रह,22 छोटे उपग्रह हैं। टाइटेनिया इन सभी उपग्रहों में से सबसे बड़ा है।
  •  FactsArea सौरमंडल का दूसरा सबसे बड़ा ग्रह शनि है।
  • मिल्की वे में 200 बिलियन तारे पाए जाते हैं।
  • मरीनर 10 ही एक ऐसा एयरक्राफ्ट है जो बुध ग्रह पर गया हैं|
  • 2006 में प्लूटो को ग्रह की श्रेणी से हटा दिया गया था।
  • नासा ने अब अंतरिक्ष में अंतरिक्ष यात्रियों के लिए प्रिंटिड 3डी पिज़्ज़ा बनाने की भी तैयारी कर ली है।
  • कॉकरोज पृथ्वी की तुलना में अंतरिक्ष में ज्यादा तेजी से बड़े होते हैं।
  • चीन में मिल्की वे सिल्वर रिवर के रूप में जानी जाती है।
  • बुध ग्रह पृथ्वी केे 58 दिनों के तुल्य होता है ।
  • औसत रुप से चंद्रमा से पृथ्वी तक प्रकाश आने में 1.3 सेकेण्ड लगता है।
  •  FactsArea इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन का आकार एक फुटबाॅल मैदान के जितना है।
  • अंतरिक्ष में जाने वाली पहली पेय पदार्थ कोका कोला था।
  • पृथ्वी से सबसे दूर गैलेक्सी GRB 090423 है।
  • आप अंतरिक्ष में रो नहीं कर सकते क्योंकि आपके आँसू कभी नहीं गिरेंगे।
  • अंतरिक्ष यात्री के मुताबिक, अंतरिक्ष में स्टेक, गर्म धातु और वेल्डेंग फोम की तरह खुशबू आ रही है।
  • चंद्रमा का द्रव्यमान पृथ्वी के द्रव्यमान का आठवां भाग होता है।
  • हम पृथ्वी पर कहीं भी चले जाएं परंतु हम केवल चंद्रमा का एक ही भाग देख पाते हैं।
  • पृथ्वी एक ऐसा ग्रह है जिसका नाम किसी भी देवता के नाम पर नहीं रखा गया है।
  • सूर्य एक पूरा रोटेशन 25-35 दिनों में पूरा करता है।
  • यदि कोई तारा ब्लैक होल के काफी पास से होकर गुजरता है तो वह बिखर सकता है।
  •  FactsAreaISRO का पूरा मतलब Indian Space Research Organization हैं|
  • 1962 में अमेरिका ने अंतरिक्ष में एक हाइड्रोजन बम फेंका था जो कि हिरोशिमा में फेंके बम की अपेक्षा 100 गुणा ज्यादा शक्तिशाली था|
  • मंगल ग्रह से देखने पर सूर्यास्त नीला दिखाई देता है|
  • मंगल ग्रह पर 1 दिन, 24 घंटे 39 मिनट और 35 सेकंड का होता है|
  • “मिल्की वे गैलेक्सी” की चौड़ाई लगभग 1,00,000 प्रकाश वर्ष है|
  • हमारा चंद्रमा पृथ्वी से 4 सेंटीमीटर प्रति वर्ष की दर से दूर होता जा रहा है|
  • प्लूटो ग्रह चंद्रमा से भी छोटा है यहां तक की व्यास में यह USA से भी छोटा है|
  • हम पृथ्वी पर कहीं भी चले जाएं परंतु हमे चंद्रमा का केवल एक ही भाग देखने को मिलेगा|
  • ज्यादा समय अंतरिक्ष में रहने पर अंतरिक्ष यात्रियों का ह्रदय थोड़ा गोलाकार हो जाता है|
  • अरुण ग्रह को मूल रुप से जॉर्ज स्टार कहा जाता हैं|
  •  FactsArea अमेरिका को अंतरिक्ष में पहला इंसान भेजने में कामयाबी 20 फरवरी 1962 को मिली थी|
  • अगर मनुष्य को बिना किसी सुरक्षा उपाय के स्पेस में छोड़ दिया जाए तो वह केवल 2:00 मिनट तक ही जीवित रह पायेगा|
  • स्पेस में यदि दो धातु आपस में स्पर्श कर ले तो वह हमेशा के लिए जुड़ जाती है|
  • सौरमंडल में वर्तमान में 166 मून है|
  • मरीनर 10 ही एक ऐसा एयरक्राफ्ट है जो बुध ग्रह पर गया हैं|
  • Albert Einstein की माने तो अंतरिक्ष में जो तारें हमे नज़र आते है वो असल में उस जगह नहीं है बल्कि उनके द्वारा छोड़े गए कई सालों पुराना प्रकाश है|
  • पृथ्वी, मंगल, बुद्ध और शुक्र ग्रहों को आंतरिक ग्रह कहा जाता है क्योंकि ये सभी सूरज के सबसे नज़दीक है|
  • अंतरिक्ष से देखने पर पृथ्वी एक नीली गेंद की तरह दिखाई देती है क्योंकि पृथ्वी पर 71% पानी है जिसके कारण वह नीली दिखाई देती है|
  • अगर आप स्पेस में हो इसका मतलब ये नहीं है की आपके कंप्यूटर में वायरस नहीं आ सकता. स्टेशन के 52 कंप्यूटर में एक से ज्यादा बार वायरस अटैक हो चुके है
  • अंतरिक्ष में आप डकार नहीं ले सकते
  • अगर आप स्पेस में किसी के सामने खड़े रहकर भी तेज चिल्लाएंगे तो भी वह आपकी आवाज नहीं सुन पायेगा क्योंकि अंतरिक्ष में आपकी आवाज को एक स्थान से दुसरे स्थान तक पहुचाने का कोई माध्यम नहीं हैं|
  • Astronauts” शब्द अमेरिका से आया हैं जबकि रूस में अंतरिक्ष खोजकर्ता को “Cosmonauts” कहा जाता है|
  • प्रकाश को सूर्य से पृथ्वी तक आने में 8.3 मिनट का समय लगता है|
  • मंगल ग्रह पर कम गुरुत्व के कारण पृथ्वी पर 100 किलोग्राम वाले व्यक्ति का वजन वहां 38 किलोग्राम होगा|
  • गुरुत्वाकर्षण बल कभी-कभी धूमकेतु को भी तोड़ सकता है|
  •  FactsArea अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री जॉन ग्लेन दुनिया के सबसे बुजुर्ग अंतरिक्ष यात्री थे, उन्होंने सन् 1996 में 77 साल की उम्र में स्पेस शटल डिस्कवरी पर जाकर सबसे बुजुर्ग अंतरिक्ष यात्री होने का रिकॉर्ड बनाया था.
  • NASA एक व्यक्ति को तब तक अंतरिक्ष यात्री नहीं मानता जब तक वो पृथ्वी की सतह से 50 मील की यात्रा नहीं कर लेता हैं
  • आप को जान कर हैरानी होगी की NASA अंतरिक्ष यात्री अंतरिक्ष से भी वोट कर सकते हैं|
  • “जेन डेविस और मार्क ली” अंतरिक्ष में एक साथ जाने वाले पहले कपल थे. सन् 1992 में वे दोनों स्पेस शटल इंडीवर के चालक दल में शामिल थे|
  • अंतरिक्ष पर गुरुत्व के न होने के कारण अंतरिक्ष यात्री लगभग 2 इंच ऊंचाई में बढ़ जाते हैं|
  • अंतरिक्ष (Space) में चलने के दौरान अंतरिक्ष यात्रियों के हाथों के नाख़ून अपने आप छोटे हो जाते हैं|
  • अंतरिक्ष में सूर्य सफ़ेद दिखाई देता है|
  •  FactsArea अंतरिक्ष सूट को बनाने में 12 मिलियन डाॅलर खर्च होते हैं|
  • अंतरिक्ष में होते हुए आप हर 90 मिनट में सूर्योदय देख सकते हैं|
  • अंतरिक्ष यात्रियों को सोने के लिए काफी मेहनत करनी होती है, उन्हें आंखों पर पट्टी बांध कर एक बंकर में सोना होता है ताकि वह तैरने और इधर-उधर टकाराने से बच सके|
  • लाइका नामक कुत्ते ने 13 नवंबर 1957 को स्पूतनिक II यान में बैठकर धरती का चक्कर लगाया था पर वह पृथ्वी पर जीवित वापस नहीं आ पाई थी|
  • जब स्पेस स्टेशन पूरी तरह से बन जायेगा तो वह पृथ्वी से लगभग 90% जनसंख्या को दिखेगा|
  • International Space Station में टॉयलेट के पानी को फ़िल्टर कर के पीने योग्य पानी बनाया जाता है|
  • हम पृथ्वी पर कहीं भी चले जाएं परंतु हमे चंद्रमा का केवल एक ही भाग देखने को मिलेगा|
  • 10 अगस्त 2015 को नासा के एक अंतरिक्ष यात्री ने खाना खाया जो पहली बार अंतरिक्ष में ही उगाया गया था|
  •  FactsArea भारत के पहले अंतरिक्ष यात्री राकेश शर्मा थे |
  • एक जानकारी के मुताबिक NASA में काम करने वाले 36% लोग भारतीय है|
  • शुक्र और मंगल ग्रह पर तापमान 450 डिग्री सेल्सियस रहता है क्योकिं यह दोनों ग्रह सूर्य के निकट होने के कारण बहुत गर्म है|
  • सुनकर आपको हसीं आएगी पर यह सच है की आप स्पेस में पाद नहीं सकते क्योंकि वहां ग्रेविटी नहीं है|
  • अंतरिक्ष में स्थित “अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष केंद्र (International Space Station): का आकार फुटबॉल के मैदान के बराबर है।
  • अंतरिक्ष पूरी तरह शांत रहता है क्योंकि वहां पर हवा नहीं है, सिर्फ निर्वात है।
  • अंतरिक्ष से देखने पर सूरज सफेद दिखाई देता है।
  • अंतरिक्ष से देखने पर सूरज सफेद दिखाई देता है।
  • अंतरिक्ष में तीन प्रकार की आकाशगंगा हैं- Spiral, Elliptical और Irregular. इसके अंदर 100 से 400 अरब तारे होने की संभावना है।
  • अंतरिक्ष में शरीर के फटने की संभावना बहुत अधिक होती है क्योंकि वहां पर वायुदाब नहीं होता है।
  • अंतरिक्ष में गुरुत्वाकर्षण बल नहीं है। इस कारण अंतरिक्ष यात्रियों की रीड की हड्डी सीधी करने पर 2.5 इंच तक बढ़ जाती है।
  •  FactsArea अंतरिक्ष के अंदर पहली सेल्फी 1666 में बज एल्ड्रिन ने ली थी। इन सेल्फी की नीलामी 6 लाख रूपये में हुई।
  • अंतरिक्ष से चारों ओर देखने पर सब कुछ काला दिखाई देता है। सूर्य चमकता हुआ दिखाई देता है।
  • स्पेस सूट को पहन कर कोई व्यक्ति सीटी नहीं जा सकता है क्योंकि इसके अंदर हवा का दवाब बहुत कम होता है।
  • अंतरिक्ष में कुछ भी बोलने पर पास खड़ा व्यक्ति भी नहीं सुन सकता है।
  • 1977 में गहरे अंतरिक्ष से 72 सेकेंड का सिग्नल प्राप्त हुआ था, पर अब तक यह पता नहीं लग पाया कि यह सिग्नल किसने भेजा था।
  • जितना पानी पृथ्वी के सभी महासागरों में उससे 140 ट्रिलियन अधिक पानी का जलाशय अंतरिक्ष में तैरता रहता है।
  • शनि के छल्ले केवल ठोस नहीं होते, यह बर्फ, कंकड़ और चट्टानों के कणों से भी बने होते हैं।
  • अंतरिक्ष में सबसे ज्यादा देर तक चलने का रिकॉर्ड भारतीय मूल की वैज्ञानिक सुनीता विलियम्स के नाम है। इस स्पेस वाक का उन्होंने वीडियो शूट भी किया है जो लगभग 8 मिनट का है।
  • अंतरिक्ष स्टेशन में सोना सबसे मुश्किल भरा काम होता है क्योंकि गुरुत्वाकर्षण बल ना होने से आप हमेशा तैरते रहते हैं। इसलिए वहां पर स्लीपिंग सेंटर होते हैं जिसमें स्लीपिंग बैग मौजूद होते हैं। वैज्ञानिक उसमें घुसकर अंदर सोते हैं।
  • अंतरिक्ष में हमेशा एक अजीब तरह की बदबू आती रहती है और कई यात्रियों ने बताया कि यह काफी हद तक वेल्डिंग से निकलने वाले धुएं जैसी महक होती है
  • अंतरिक्ष में दूरी प्रकाशवर्ष में नापी जाती है। एक प्रकाशवर्ष मतलब प्रकाश द्वारा 3 लाख किलोमीटर प्रति सेकंड की गति से एक साल में तय की गयी दूरी होती है।
  • ‘अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन’ वो जगह है जहां पर वैज्ञानिक रहकर अंतरिक्ष से जुड़े विषयों पर शोध करते हैं। आकंड़ो के अनुसार इन अंतरिक्ष स्टेशन को बनाने में लगभग 150 बिलियन डॉलर का खर्च आता है।
  • अंतरिक्ष में गुरुत्वाकर्षण न होने के कारण अंतरिक्ष यात्री भोजन पर नमक या मिर्च नहीं छिड़क सकते। और वे भोजन भी द्रव्य के रूप में लेते है, ऐसा इसलिए है क्योकीं सूखे भोजन हवा में तैरने लगेगें और इधर उधर टकराने के साथ ही अंतरिक्ष यात्री की आंख में भी घुस जाएगा।
  • अंतरिक्ष में गुरुत्वाकर्षण के न होने से कमजोरी आती है और यह अंतरिक्ष में जाने वाले हर व्यक्ति के साथ होता है। इस कमजोरी से बाहर आने में एक यात्री को लगभग 2-3 दिन का समय लग सकता है।
  • किसी अंतरिक्ष वाहन को वायुमंडल से बाहर निकालने के लिए कम से कम 7 मील प्रति सेकंड की गति की आवश्कता होती हैं, पर ऐसा क्यों हैं ऐसा अभी तक ज्ञात नहीं हुआ हैं।
  • 2006 में, खगोलविदों ने एक ग्रह की परिभाषा बदल दी। इसका मतलब यह है कि प्लूटो को अब एक बौना ग्रह के रूप में जाना जाता है।
  • चांद पर अंतरिक्ष यात्रियों द्वारा छोड़े गए पैरों के निशान और टायर की पटरियां हमेशा के लिए वहां रह जाएंगी क्योंकि उन्हें उड़ाने के लिए कोई हवा नहीं है।
  • पहला मानव निर्मित वस्तु 1957 में अंतरिक्ष में भेजा गया था जब स्पुतनिक नामक रूसी उपग्रह लॉन्च किया गया था।
  • itemमनुष्य को ज्ञात सबसे ऊँचा पर्वत वेस्टा नामक क्षुद्रग्रह पर है। इसकी ऊँचाई 22 किलोमीटर है, यह माउंट एवरेस्ट से तीन गुना ऊँचा है|
  • साल 1984 में अमेरिकी एस्ट्रोनॉट ब्रूस मैक्कैंड्लेस यान से निकलकर अंतरिक्ष में विचरण करने वाले पहले मानव बने। वे चैलेंजर नामक अंतरिक्ष यान से बाहर निकलकर 300 फुट तक चले थे। ब्रूस यूएस नेवी में फाइटर पायलट भी रह चुके हैं।
  • 23 अप्रैल, 1967 को सोवियत कॉस्मोनॉट व्लादिमीर कोमारोव अंतरिक्ष की अपनी दूसरी यात्रा के दौरान वापसी में स्पेसक्राफ्ट के दुर्घटनाग्रस्त हो जाने पर मारे गए थे। अंतरिक्ष यात्रा में मरने वाले वे दुनिया के पहले व्यक्ति थे।
  • लाइका नामक कुतिया ने 13 नवंबर साल 1957 को स्पूतनिक सेकंड यान में बैठकर धरती का चक्कर लगाया था। हालांकि वह पृथ्वी पर जीवित वापस नहीं आ पाई थी।
  • 20 जुलाई, 1969 को अमेरिका के अपोलो 11 मिशन के जरिए चांद पर पहली बार इंसान के कदम पड़े थे। नील आर्मस्ट्रांग ने चांद पर कदम रखते हुए कहा एक छोटा-सा कदम, लेकिन मानवता के लिए एक लंबी छलांग।
  • सर आइजैक न्यूटन के सेब के पेड़ का एक नमूना 'गुरुत्वाकर्षण अवहेलना करना' के लिए अंतरिक्ष में भेजा गया था।
  • अंतरिक्ष यात्री जब अंतरिक्ष का सफर कर पृथ्वी पर लौटते हैं तो उन्हें पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण के हिसाब से ढलने में समय लगता है। अंतरिक्ष की तरह वह पृथ्वी पर भी चीजों को हाथ से छोड़ देते हैं। लेकिन पृथ्वी पर चीजें जमीन पर गिर जाती हैं और टूट जाती हैं।
  • अंतरिक्ष में पहली मानव निर्मित वस्तु जर्मन वी 2 रॉकेट थी।
  • उत्तर कोरिया की अंतरिक्ष एजेंसी को "नाडा" कहा जाता है, जो स्पेनिश में "कुछ नहीं" होता है।
  • अंतरिक्ष में जन्मे काकरोच पृथ्वी पर जन्मे तिलचट्टे से तेज, ताकतवर, सख्त, और तेज़ हो जाते हैं।
  • अपोलो 13 आपातकाल के दौरान पृथ्वी से सबसे दूर की दूरी एक अंतरिक्ष यात्री ने कभी यात्रा की है।
  • अगर आप हबल स्पेस टेलीस्कॉप पर कैमरे के साथ-साथ देख सकते हैं, तो आप एक मील दूर अखबार पर ठीक प्रिंट पढ़ सकेंगे।
  • संयुक्त राष्ट्र साल 2021 में अपना पहला अंतरिक्ष मिशन शुरू करने की योजना बना रहा है।